Recent Updates
Home / Health / Acidity / किन किन चीजों को साथ खाये, किनको साथ नहीं खाये

किन किन चीजों को साथ खाये, किनको साथ नहीं खाये

Share this now

किन किन चीजों को साथ खाये, किनको साथ नहीं खाये

“Hello Friends” आयुर्वेद में आपका हार्दिक स्वागत है। दोस्तों आज हम आपको उन खाद्य पदार्थो के बारे में बताने जा रहे है। जो साथ में नहीं खाना चाहिए। जिनको साथ में खाने से हमारे शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। पोषक खाद्य पदार्थ ही हमारे शरीर को तंदरुस्ती प्रदान करते है यदि इनका भी ठीक से सेवन न किया जाये तो ये हमारे स्वास्थ्य को बिगाड़ देते है। इसलिए दोस्तों अपने शरीर के स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिए हमें अपने खान पान का बहुत ही ध्यान रखना चाहिए। तो आइये दोस्तों जानते है हमें किन किन चीजों के साथ क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए।

खाना खाने के बाद मीठा खाना चाहिए या नहीं ?

दोस्तों खाना खाने के बाद मीठा खाने सेहत के लिए अच्छा होता है मीठा अगर खाने से पहले खाया जाए तो बेहतर है दोस्तों जब हम तीखे खाने का सेवन करते है तो इससे हमारा शरीर पाचक रस और अमल का रिसाव करता है जिससे की पाचन तेजी से होने लगता है। खाने के बाद में मीठा खाने से प्रोटीन और फैट का पाचन मंदा होता है। शरीर में शुगर सबसे पहले पचता है, प्रोटीन उसके बाद और फैट सबसे बाद में।

 

खाने के बाद चाय पिएं या नहीं?

भोजन करने के तुरंत बाद चाय पीना सेहत के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं होता । ऐसा इसलिए क्योंकि चाय की पत्ती में अम्लीय गुण होते हैं और जब वो भोजन के प्रोटीन के साथ मिलते हैं तो प्रोटीन सख्त हो जाता है, जिस वजह से उसे पचाने में हमारी पाचन प्रणाली को मुश्किल होती है और अधिक मेहनत करनी पड़ती है। इसलिए चाय का सेवन खाना खाने के तुरंत बाद ना ही करें तो अच्छा होता है। इसके अलावा चाय में कैफीन होता है, जोकि ब्‍लड प्रेशर को बढ़ाता है। यदि आप चाय या कॉफी के बिना रह ही नहीं सकते हैं तो आप ग्रीन टी, डाइजेस्टिव टी, कहवा या सौंफ, दालचीनी, अदरक आदि की बिना दूध की चाय पी सकते हैं।

 

दूध के साथ दही का सेवन नहीं करना चाहिए।

दोस्तों हमें दूध के साथ दही का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए। क्योकि इन दोनों चीजों की तासीर अलग होती है। दूध की तासीर ठंडा और दही की तासीर को खट्टा माना जाता है। जब इन अलग अलग तासीर वाली चीजों का सेवन एक साथ किया जाता है तो ये हमारे पाचन तंत्र को खराब कर देते है। जिससे अमल पित्त, उलटी,अपच, पेट दर्द और पेट में गैस जैसी बीमारिया होने लगती है। दोस्तों यदि आपको इन चीजों का सेवन करना भी है तो कम से कम 1-2 घंटे के बाद करना चाहिए इससे आपके स्वास्थ्य को कोई भी नुकसान नहीं पहुंचेगा।

दूध में अदरक पकाकर जरूर पीना चाहिए।

दोस्तों अदरक वाली चाय पीने में जितनी स्‍वादिष्‍ट लगती है उतनी गुणकारी भी होती है। अगर अदरक को दूध में मिलाकर पिया जाए तो इसके फायदे कई गुना बढ़ जाते हैं। अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाने के कारण चाहे सर्दी-जुकाम हो या वायरल फ्लू, मरीज को अदरक के सेवन की सलाह दी जाती है। अदरक का दूध पाचन तंत्र के लिए लाभकारी होता है। यह कब्ज, पेट दर्द, एसिडिटी, एसिड रिफ्लक्स से पाचन तंत्र की रक्षा करती है।अदरक का दूध पिने से गठिया के दर्द और गले की खराश से भी छुटकारा मिलता है।

 

दूध के साथ नमकीन और तली हुई चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

दोस्तों दूध के साथ किसी प्रकार की कोई भी नमकीन और तली भुनी चीजों को नहीं खाना चाहिए। दूध में प्रोटीन के साथ साथ कैल्शियम, विटामिन्स और शुगर की मात्रा भी पाई जाती है जबकि नमकीन चीजों में सोडियम की मात्रा अधिक होती है जब इन दोनों चीजों को साथ में खाया जाता है तो सोडियम, मिल्क प्रोटीन को पेट में ही जमा देता है। जिससे की त्वचा के रोग पैदा होने लगते है इसलिए इन सभी रोगो से बचने के लिए हमें कभी भी दूध के साथ तले – भुने और नमकीन पदार्थो का सेवन नहीं करना चाहिए।

 

रात को सोने से पहले दूध पीना चाहिए।

रात को दूध पीना सबसे अच्‍छा माना जाता है क्‍योंकि इससे शरीर की दिन भर की थकान मिटती है। .दूध में ट्रीप्‍टोफन नामक अमीनो एसिड की मौजूदगी से नींद के हार्मोन स्‍तर को बढ़ाने में मदद मिलती है. इसी कारण से रात को दूध पीने से अच्‍छी नींद आती है। दूध कैल्शियम का अच्छा स्रोत है, जो हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। दूध में प्रोटीन होता है जो कि मांसपेशियों के विकास के लिए लाभदायक होता है। दूध को कभी भी भोजन के साथ नहीं पीना चाहिए क्‍योंकि यह जल्‍द हजम नहीं हो पाता। इसे हमेशा अलग से गर्म करके पीना चाहिए।

खाना खाने के साथ छाछ का सेवन

दोस्तों छाछ एक ऐसा पदार्थ है जिससे हमारे शरीर को पोषण मिलता है। इसलिए इसका सेवन हमें किसी भी प्रकार का कोई भी नुकसान नहीं पहुँचता। इसमें अगर एक चुटकी काली मिर्च, जीरा और सेंधा नमक मिला लिया जाए तो यह हमारी सेहत के लिए और भी अच्छा होता है यह हमारे खाने को अच्छी तरह से पचा देता है। कब्ज होने पर छाछ में अजवाइन मिलाकर पीने से कुछ ही दिनों में इस समस्या से राहत मिलती है। रोज एक गिलास छाछ पीने से कोटेस्ट्रॉल लेवल कम होता है और हार्ट अटैक के खतरे की आशंका घट जाती है। छाछ हमारे अमल पित्त को भी बढ़ने से रोकता है इसलिए खाना खाने के साथ छाछ का सेवन जरूर करना चाहिए।

 

दही के साथ फलों का सेवन नहीं करना चाहिए।

 

लोग दही के साथ फल खाना बहुत पसंद करते है लेकिन इनका कभी भी इकठा सेवन नहीं करना चाहिए। फलों और दही की तासीर एक दूसरे के विरुद्ध होती है जो हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुँचती है दही के साथ आपको कभी भी खट्टे फल नहीं खाने चाहिए, क्यों की उसमे अलग अलग एंजाइम मौजूद होते है, जिससे इन दोनों को साथ में पचाने में मुश्किल होती है। जिससे शरीर में टॉक्सिंस बनते है।और पाचन तंत्र ख़राब होने के खतरा और भी बढ़ जाता है।

दूध के साथ फलों का सेवन।

दोस्तों ऐसे बहुत से फल होते है जिनका सेवन दूध से साथ बिलकुल नहीं किया जाता लेकिन हम फिर भी उन्ही को खाना पसंद करते है। हमें कभी भी दूध के साथ खट्टे फलों जैसे संतरा, मौसमी, अनानास, अंगूर आदि का सेवन नहीं करना चाहिए क्योकि इन फलों में लेक्टिक एसिड पाया जाता है जो दूध के साथ मिलकर दूध को जमा देता है दोस्तों बहुत से लोग दूध के साथ केला खाना बहुत पसंद करते है लेकिन यह हमारी सेहत के लिए बहुत ही हानिकारक होता है यह हमारे पाचन तंत्र को प्रभावित करता है इनके सेवन से साइनस के सिकुड़ने, कोल्ड, कफ और अन्य एलर्जी जैसी बीमारिया हो सकती हैं.लंबे समय तक दूध और केले के सेवन से वॉमिटिंग और लूज मोशन होने लगता है

 

फल खाने के फौरन बाद पानी पी सकते हैं, खासकर तरबूज खाने के बाद?

दोस्तों वैसे देखा जाये तो फल खाने के बाद पानी पीना कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन जिन फलो में पहले से ही पानी की मात्रा अधिक हो उनके साथ पानी नहीं पीना चाहिए जैसे तरबूज। दोस्तों तरबूज में फाइबर और पानी काफी मात्रा में पाया जाता है जिसके उपरांत पानी का सेवन स्वास्थ्य के लिए लाभदायक नहीं होता। जो पाचन रसों को डाइल्यूट कर देता है। तरबूज के साथ पानी पीने से लूज-मोशन हो सकते हैं। यह वजन घटाने के इच्छुक लोगों के अलावा शुगर और दिल के मरीजों के लिए भी अच्छा है।इसके अलावा अन्य कोई भी फल हो उसके साथ पानी का सेवन किया जा सकता है क्योंकिउनमे कैलोरी कम मात्रा में पाई जाती है।

किस समय करे फलो का सेवन।

 

फलों को खाने का सबसे सही समय सुबह माना जाता है। खाली पेट फल खाना आपकी सेहत के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। फलों के साथ दूध या दही का सेवन ना करें। फल खाने के कम से कम आधा घंटे तक कुछ ना खाये। हालांकि, खट्टे फलों को खाली पेट ना खाएं क्योंकि एसिडिटी की समस्या हो सकती है। सुबह सेब, आम और केला जैसे फल खा सकते हैं। जब आप तरबूज खाएं तो इसके साथ कुछ खाने से बचें। इसमें पानी की खूब मात्रा होती है जिससे पाचन मुश्किल हो जाता है। मौसम के हिसाब से फल खाना भी सेहत के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। गर्मी के दौरान कच्चे और मीठे फलों को खाने की सलाह दी जाती है।

 

मीठे और खट्टे फलो का सेवन एक साथ नहीं करना चाहिए।

दोस्तों हमें कभी भी खट्टे और मीठे फलो का सेवन एक साथ नहीं करना चाहिए। क्योंकि खट्टे फलो से निकलने वाला लेक्टिक एसिड मीठे फलो से मिलने वाली शुगर को कम कर देता है। जिससे की हमारा पाचन तंत्र सही नहीं रहना। साथ ही फलो से मिलने वाली पौष्टिकता भी नष्ट हो जाती है। जैसे हमें कभी में संतरे और केले को एक साथ नहीं खाना चाहिए।

 

लहसुन और प्याज का सेवन

दोस्तों हमें लहसुन और प्याजका सेवन रोजाना करना चाहिए। लहसुन फैट कम करता है और बैड कॉलेस्ट्रॉल (एलडीएल) घटाकर गुड कॉलेस्ट्रॉल (एचडीएल) बढ़ाता है। इनमे एंटी-ऑक्सिडेंट गुण होते हैं। जो हमारे शरीर को रोगो से लड़ने की शक्ति प्रदान करते है प्याज से भूख बढ़ती है और यह हमारे खून को साफ करने काभी काम करता है लंबे समय तक इसके इस्तेमाल से सर्दी-जुकाम और सांस संबंधी एलर्जी का मुकाबला अच्छे से किया जा सकता है। लहसुन और प्याज को कच्चा और भूनकर किसी भी तरीके से खाया जा सकता है। कच्चे लहसुन को अच्छी तरह से चबा कर खाना चाहिए, क्योंकि इसको खाने से यूरिक एसिड की बड़ी हुई मात्रा कम हो जाती है जिससे की गठिया से छुटकारा पाया जा सकता है दोस्तों साथ ही इनके सेवन से ब्लड प्रेशर को भी कण्ट्रोल किया जा सकता है।

 

परांठे के साथ दही खाएं या नहीं?

दोस्तों वैसे तो दही खाने से हमें बहुत से लाभ मिलते है जैसे पेट भरे रहने का अनुभव होता है। भरपूर मात्रा में ऊर्जा मिलना, रोगो से लड़ने की शक्ति को बढ़ाना, मधुमेह और दिल की बीमारी आदि को नियंत्रण में रखता है। लेकिन जब इसी दही का सेवन तेल युक्त आहार जैसे परांठे और पूरी इत्यादि के साथ किया जाये तो यही हमारे लिए स्वाथ्य को बिगाड़ देती है। इसके सेवन से अमल पित्त और पेट में गैस होने की सम्भावना बढ़ जाती है इसलिए दही का सेवन तेल युक्त आहार के साथ नहीं करना चाहिए।

 

मछली खाने के बाद दूध का सेवन।

दोस्तों मछली एक मांसाहारी भोजन है और दूध एक शाकाहारी पदार्थ है इन दोनों के एक साथ खपत से खून में एक रासायनिक प्रतिक्रिया शुरू होती है जिससे त्वचा के रंगद्रव्य नमक बीमारी होती है दूध की तासीर ठंडी होती है और मछली की तासीर गर्म होती है इन दोनों का मिश्रण हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है। इनके एक साथ सेवन से त्वचा रोग होने की आशंका बढ़ जाती है।

फैट और प्रोटीन एक साथ खाएं या नहीं?

दोस्तों हमें फैट और प्रोटीन युक्त आहार को एक साथ नहीं खाना चाहिए। घी, मक्खन, तेल आदि फैट्स को पनीर जैसे भारी प्रोटीन के साथ ज्यादा नहीं खाना चाहिए क्योंकि फैट और प्रोटीन का पाचन अलग अलग समय में होता है इससे पाचन क्रिया में गड़बड़ी के साथ साथ पेट दर्द जैसी बीमारिया पैदा होने लगती है

दोस्तों अगर आप हमारे द्वारा दी गयी जानकारी को पालन करे तो आप अपने स्वास्थ्य को बनाये रख सकते है

Check Also

अगर आपकी हड्डियों से भी आती है कट कट की आवाज तो आजमाए ये घरेलु नुस्खे जो सिर्फ सात दिन में दिलाएंगे इसके साथ ही दर्द की समस्या से भी छुटकारा

Share this nowहड्डियों से कट कट की आवाज और दर्द को खत्म करने के आयुर्वेदिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »