Recent Updates
Home / Health / Acidity / जबरदस्त जोश,स्फूर्ति, हर रोग से छुटकारा, तेजी और चमक बढ़ेगी बस रात को सोते समय खाये और 70 की उम्र में 20 के हो जाये

जबरदस्त जोश,स्फूर्ति, हर रोग से छुटकारा, तेजी और चमक बढ़ेगी बस रात को सोते समय खाये और 70 की उम्र में 20 के हो जाये

Share this now

गुग्गुल है अमरत्व का मूल मंतर

 

“Hello Friends” आयुर्वेद में आपका एक बार फिर से स्वागत है।
दोस्तों आज हम आपके सामने लेकर रहे है कुछ गुग्गुल के ऐसे फायदे जिनको जानकर आपके होश उड़ जाये गए तो आइये दोस्तोंजानते है क्या है गुग्गुल




दोस्तों गुग्गुल एक पेड़ से मिलने वाला गोंद होता है जिससे गुग्गुल कहा जाता है। यह काले और लाल रंग का होता है। दोस्तों इसे कई रोगो का नाश करने वाला माना जाता है गुग्गल एक ऐसी औषधि होती है जो राजस्थान के इलाको में बहोत ज्यादा पाई जाती है अब्बु पर्वत पर मिलने वाला गुग्गुल बोहत अच्छा आना जाता है। दोस्तोँ गुग्गल का स्वाद कड़वा होता है और गुग्गुल को आग में डालने पर इसकी सुगंध मिठी आती है।

गुग्गुल पर्वतीय और रेतीली जगह पर पाए जाने वाला एक ऐसा पेड़ है जिसके पत्ते नीम जैसे पांच पंखुड़ियों वाले होते है ।गुग्गुल का पेड़ वर्षा ऋतु में वृद्धि करता है। दोस्तों यह पेड़ सामान्य 3-4 मीटर लम्बा होता है गुग्गल का तना इसका उपयोगी भाग है जिससे सफ़ेद रंग का दूध निकलता है।

गुग्गुल के अन्य नाम

दोस्तों इसको अलग अलग भाषाओ में अलग अलग नाम से जाना जाता है जैसे:-

हिंदी में गूगल।
कन्नड़ में गुग्गुल।
नेपाल में गोकुल धुप।
इंग्लिश में गम गूगल आदि।





दोस्तों आइये जानते है गुग्गुल के फायदे

सायटिका से छुटकारा 

दोस्तों गुग्गुल एक औषधि है जिसके उपयोग से सायटिका जैसी बीमारी से छूटकर पाया जा सकता है
आवश्यक सामग्री :-
50 ग्राम गुग्गुल , 10 ग्राम लहसुन , 25 ग्राम घी
दोस्तों इन तीनो चीजों को मिलकर मटर के दाने के सामान गोलियां बना ले और दिन में 3 बार इनका सेवन करे आपको जल्द ही इस बीमारी से राहत मिलेगी

कमर दर्द से छुटकारा 

आवश्यक सामग्री :-
गुग्गुल, गिलोय , हरड़ के बकल, बहेड़े के छिलके और गुठली सहित सूखे आंवले
इन सब सामग्री को 50 -50 ग्राम लेकर एक चूर्ण बना ले उसके बाद इस चूर्ण में से आधा चम्मच चूर्ण लकर उसमे अरंडी का तेल मिलाकर 20 दिन तक लगतार सेवन करे इससे आपको कमर दर्द से जल्दी रहत मिलेगी | इसके अलावा गुग्गुल को पानी में उबाल कर उस पानी का लेप कमर पर करने से भी कमर दर्द में बहुत जल्दी आराम मिलता है |

सिरदर्द व हिचकी से छुटकारा 

गुग्गुल को पान या फिर पानी के साथ पीसकर 2 -3 बार माथे पर लगाने से बहुत जल्दी सिर के दर्द में आराम मिलता है। और यदि गुग्गुल के इस लैप को अपनी नाभि पर लगा ले तो बार बार आने वाली हिचकी से राहत मिलती है।



गंजेपन से छुटकारा 

यदि गुग्गुल को कूटकर उसके चूर्ण को सिरके में मिलाकर सर में गंजेपन वाले स्थान पर लगाए तो इससे आपकी गंगे पन की समस्या बहुत जल्दी दूर हो जायेगी।

सूजन से छुटकारा 

गुग्गल को कूटकर बनाये हुए चूर्ण को गरम पानी में मिलकर उसके लेप को सूजन वाली जगह लगाने से जल्द ही सूजन से राहत मिलेगी।

बवासीर से छुटकारा 

गुग्गुल के चूर्ण को पानी में मिलाकर बनाये हुए लेप को बवासीर के मस्सो पर सुबह शाम लगाने से जल्द ही बवासीर से छुटकारा मिलता है । दूसरा, अगर 3 ग्राम गुग्गुल की गोलिया सुबह – शाम गर्म पानी के साथ सेवन करे तो इससे हमारा पेट साफ़ होता है जिसका प्रभाव बवासीर के मस्सो पर पड़ता है।  और बवासीर खत्म होने लगती है। तीसरा 5 ग्राम शुद्ध गुग्गुल, 10 ग्राम एलुआ और 10 ग्राम रसौत को मूली के रस में मिलाकर चने के बराबर गोलियां बनाकर रोजाना सुबह शाम सेवन करने से भी दस्त लगने से बवासीर नष्ट होना शुरू हो जाती है।

अम्लपित्त से छुटकारा

अम्लपित्त से छुटकारा पाने के लिए गुग्गुल के बनाये हुए चूर्ण को 1 कप पानी में डालकर रख दे 1 घंटा पूरा होने के बाद इस पानी को छान कर एक बर्तन में इकठा कर ले । रोजना सुबह शाम खाना खाने के बाद इस पानी का सेवन करे जल्द ही आपको हिचकी यानि कि अम्लपित्त से छूटकर मिल जायेगा।

दाढ़ और दाँत के दर्द से छुटकारा 





गुग्गुल को पानी में घिस कर दाढ़ व दांत में लगाने से दर्द में राहत मिलती है । व 3.5 मिलीग्राम गुग्गुल को 35 ग्राम पानी में घोल कर रुई को भिगोकर दांत के अंदर रखने से दांत के कीड़े बाहर निकल आते है। गुग्गुल को गरम पानी में मिलकर इसके गरारे करने से मुँह से बदबू भी दूर होने लगती है। व इससे मसूड़ों से खून आने जैसी बीमारी भी नहीं रहती । और मुँह के छाले भी ठीक हो जाते।

गठिया और जोड़ो के दर्द से छुटकारा 

गुग्गुल और सोंठ के चूर्ण को समान मात्रा में लेकर देसी घी में मिलाकर जोड़ो पर इसका लेप करने से जल्दी ही जोड़ो के दर्द से छूटकर मिलता है। दूसरा 3 ग्राम गुग्गुल और 3 ग्राम शहद को १० ग्राम घी में मिलकर दिन में एक बार सेवन करने से भी जोड़ो के दर्द में राहत मिलतीं है।  तीसरा 10 ग्राम गुग्गुल को 20 ग्राम गुड़ में मिलकर पीस ले व इसे एक हफ्ते तक देसी घी के साथ ले आप खुद देखोगे कि आपके घुटनो का दर्द कितनी जल्दी ठीक होने लगता है।

पीलिये को ठीक करना

यदि आप पीलिये जैसी बीमारी से जूझ रहे है तो आपको परेशान होने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि गुग्गल एक ऐसी औषधि है जिसको गोमूत्र के साथ सेवन करने से पीलिये जैसी बीमारी से भी छुटकारा मिल जाता है।

इन सभी के अतिरिक्त गुग्गुल बहुत सी बीमारियों जैसे शरीर में सूजन , सुंदरता बढ़ाने, मोटापा काम करने, ट्यूमर, भगन्दर, लकवा, अधिक कमजोरी कंदरद इत्यादि में भी लाभकारी है

 

गुग्गुल का सेवन करने वालो के लिए परहेज :-

गुग्गुल का सेवन करने वाले रोगियों को खटाई, मिर्च, कच्चे खाद्य पदार्थ, शराब या फिर अन्य कोई भी नशा नहीं करना चाहिए

 




 

गुग्गुल के हानिकारक तत्व :-

 

दोस्तों जहाँ गुग्गुल हमारे लिए वरदान है वही यह हमारते लिए एक अभिशाप भी है दोस्तों गुग्गुल का उपयोग केवल एक उचित मात्रा में ही किया जाता है इनकी अतिरिक्त मात्रा का सेवन करना हमरे लिए बहुत ही घातक हो सकता हैदोस्तों यदि हम इसका जरूरत से ज्यादा उपयोग उपयोग करते है तो इसका सबसे ज्यादा नुकसान हमारे यकृत को होता है दोस्तों गुग्गुल का अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर में कमजोरी पैदा हो जाती है इसके बाद चक्कर भी आने लगते है दोस्तों जो लोग गुग्गुल का सेवन करते है उन्हें रत में भरपूर नींद लेनी चाहिए उन लोगो को दिन में बिलकुल भी सोना नहीं चाइये इसका सबसे बुरा प्रभाव हमारी सेहत पर पड़ता है |



Check Also

एलोवेरा के फायदे जान आप भी हो जायेंगे हैरान ……..

Share this nowलाखो गुणों से भरपूर है “एलोवेरा” का छोटा सा पौधा……. नमस्कार दोस्तों !आज …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »