Recent Updates
loading...
Home / Health / उत्तम वाजीकारक, स्तम्भन बढ़ाने और शुक्र शोधक पलाश। How to Improve Power and Stamina
Video Link:-http://youtu.be/57IP3LezgRo

उत्तम वाजीकारक, स्तम्भन बढ़ाने और शुक्र शोधक पलाश। How to Improve Power and Stamina

Share this now

Download our Mobile App for all Video: – https://goo.gl/txgp3K
Find us on Facebook: – https://facebook.com/healthsolution.co.in
पलाश वीर्य विकार को दूर कर के उत्तम वाजीकरण है, शीघ्रपतन, स्तम्भन और शुक्र के शोधन में बहुत ही गुणकारी है, इसके साथ साथ ये बांझपन में भी अति श्रेष्ठ औषिधि है, आइये जानते हैं इसके गुण और उपयोग कि विधि। For More Visit http://www.onlyinayurveda.com
प्रमेह (वीर्य विकार) :-
पलाश की मुंहमुदी (बिल्कुल नई) कोपलों को छाया में सुखाकर कूट-छानकर गुड़ में मिलाकर लगभग 10 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम खाने से प्रमेह नष्ट हो जाता है।
टेसू की जड़ का रस निकालकर उस रस में 3 दिन तक गेहूं के दाने को भिगो दें। उसके बाद दोनों को पीसकर हलवा बनाकर खाने से प्रमेह, शीघ्रपतन (धातु का जल्दी निकल जाना) और कामशक्ति की कमजोरी दूर होती है।
वाजीकरण :-
5 से 6 बूंद टेसू के जड़ का रस प्रतिदिन 2 बार सेवन करने से अनैच्छिक वीर्यस्राव (शीघ्रपतन) रुक जाता है और काम शक्ति बढ़ती है।
टेसू के बीजों के तेल से लिंग की सीवन सुपारी छोड़कर शेष भाग पर मालिश करने से कुछ ही दिनों में हर तरह की नपुंसकता दूर होती है और कामशक्ति में वृद्धि होती है।
लिंग कि दृढ़ता हेतु .
पलाश के बीजों के तेल कि हल्की मालिश लिंग पर करने से वह दृढ होता है. यदि तेल प्राप्त ना कर सकें तो पलाश के बीजों को पीसकर तिल के तेल में जला लें तथा उस तेल को छानकर प्रयोग करें .इससे भी वही परिणाम प्राप्त होते है।
स्तम्भन एवम शुक्र शोधन हेतु .
इसके लिए पलाश कि गोंद घी में तलकर दूध एवम मिश्री के साथ सेवन करें . दूध यदि देसी गाय का हो तो श्रेष्ठ है।
Channel Link:-https://www.youtube.com/channel/UChBp2SToznDxwVfRrPwMkPQ

Check Also

भूलकर भी इन बीमारियों में ना करे आम का सेवन नहीं तो शरीर बन जायेगा बड़ी बड़ी बीमारियों का घर

Share this now दोस्तों आज की इस वीडियो में हम आपको आम के बारे में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »